Home/READER''S DELIGHT (Biography Books)
Show Product:
Total 60 books
Biography of Jawahar Lal Nehru
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

There are a lot of things to know about Nehru, the first Prime Minister of India and father of Indira Gandhi. The book covers all the aspects of Nehru’s intellectual and political life - including his close relationship with Mahatma Gandhi, his English education, and the years of periodic and sometimes prolonged imprisonment. The book describes Nehru’s rise to the presidency of India’s National Congress, revealing how his radical ideas and fearless leadership of Congress’s left wing soon won him the martyrdom of long years behind British bars for conducting civil disobedience campaigns. After his release in 1945, Nehru met Lord Mountbatten, with whom he was destined to negotiate the independence and partition of British India into the nation states of India and Pakistan in 1947. 

Biography of Kalpana Chawla
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

This book is a biography of Kalpana Chawla, first Indian born woman astronaut. This book explains how an ordinary girl from a small town of Karnal in Haryana, India, crossed continents and high seas to an alien culture, exploring the outer space. The biography depicts Kalpana Chawla?s life and her dedication to Space Technology. She was the first India-born woman to go to Space. By her extraordinary feat she has become a symbol of conviction and courage. This book is an attempt to present the exciting journey of a courageous woman, what people think about her and what made her so endearing to the youth of the country.

Biography of Kalpana Chawla
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

यह पुस्तक कल्पना चावला की जीवन-गाथा है जो कि भारतीय मूल की प्रथम महिला अंतरिक्ष यात्री थीं। कल्पना चावला अपने कड़े परिश्रम एवं अध्ययन द्वारा सफलता की ऊँचाइयों को छूने का एक उत्कृष्ट उदाहरण हैं और इसके लिये समस्त भारतीय समुदाय की श्रद्धा एवं प्रेम की पात्र हैं। वह स्त्री-पुरुष की परस्पर समानता की उत्तम द्योतक थीं एवं महिलाओं को प्रत्येक क्षेत्र में सफलता प्राप्ति हेतु प्रोत्साहन की समर्थक थीं। पुस्तक कल्पना चावला के बचपन, परिवार, शिक्षा एवं अंतरिक्ष विज्ञान में उनके योगदान पर पर्याप्त प्रकाश डालती है। वह भारतीय मूल की प्रथम महिला थीं जो अपनी कड़ी मेहनत और गहन अध्ययन द्वारा दो बार अंतरिक्ष की ऊँचाइयों को छू सकीं थीं। अपनी इस असाधारण प्रतिभा एवं उपलब्धि द्वारा वह दृढ़ता एवं साहस का प्रतीक बन गईं। पुस्तक, इस असाधारण साहसी महिला की रोमांचक जीवन-यात्रा, शिक्षा, नासा में प्रशिक्षण एवं अंतरिक्ष यात्रा और उसमें ऐसे क्या गुण थे जिन्होंने उसे भारत के समस्त युवा वर्ग की प्रेरणा एवं श्रद्धा का पात्र बना दिया, पर भी पर्याप्त प्रकाश डालती है। पुस्तक यह भी दर्शाती है कि कैसे हरियाणा राज्य में करनाल जिले के एक छोटे-से कस्बे की एक साधारण-सी लड़की अनेक महाद्वीपों एवं महासागरों को लांघकर अनंत अंतरिक्ष की खोज में एक विदेशी संस्कृति को अपनाती है और फिर अपनी उस महान अंतहीन खोज में स्वयं अनंत अंतरिक्ष में विलीन हो जाती है।

Biography of Lal Bahadur Shastri: Second...
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

The Biography of Lal Bahadur Shastri is the brief life sketch of the second Prime Minister of India who was also a significant figure in the freedom struggle of India.
He was a true follower of Mahatma Gandhi and Jawaharlal Nehru and followed their footsteps throughout his life.
In spite of his short stature he proved himself to be a towering statesman. He is best known for his qualities of simplicity, leadership and unblemished career.
His short but illustrious career as Prime Minister continues to inspire millions of people of India even today. He lived a life of absolute honesty and when died, left no house, no land and no cash after him. His honesty has no parallel in world history in modern times.
The inside pages consist of an inspiring account of his life - how a humble orphan boy of a poor family rose to become the Prime Minister of India and displayed such strength of character and leadership qualities that India sailed through smoothly in the toughest of times during India-Pakistan war of 1965, teaching Pakistan a hard lesson.

Biography of Lal Bahadur Shastri: Second...
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

लाल बहादुर शास्त्री की जीवनी भारत के द्वितीय प्रधानमंत्री की जीवनगाथा है जो कि भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की भी एक महत्वपूर्ण विभूति थे। वे महात्मा गाँधी और जवाहरलाल नेहरू के सच्चे अनुयायी थे तथा जीवनपर्यन्त उनके पदचिह्नों पर चलते रहे।
अपने छोटी कद-काठी के बावजूद उन्होंने स्वयं को एक महान राजनेता सिद्ध कर दिया। उन्हें उनकी सादगी, नेतृत्व एवं निर्दोष कार्यकाल के लिये जाना जाता है। प्रधानमंत्री के रूप में उनका छोटा किंतु शानदार कार्यकाल आज भी भारत के करोड़ों लोगों को प्रेरणा देता है।
पुस्तक में उनके जीवन का एक प्रेरणात्मक विवरण है कि कैसे एक गरीब परिवार का साधारण, अनाथ बालक बड़ा होकर विशाल भारत देश का प्रधानमंत्री बना और अपने चरित्र एवं नेतृत्व के ऐसे गुण दर्शाए कि भारत 1965 के भारत-पाक युद्ध के कठिनतम समय से सरलता से निकल सका और पाकिस्तान को एक कड़ा पाठ पढ़ाया।

Biography of Lala Lajpat Rai
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

The Biography of Lala Lajpat Rai is the life sketch of the great freedom fighter who was among the first few who sacrificed their lives for the independence of India from the British rule. It was not in their destiny to see India free in their lifetime yet their supreme sacrifice paved the way for millions of Indians after them to breathe in the freedom from foreign rule. Lala Lajpat Rai was popularly known as ‘Punjab Kesari’. It was a worthy title and he truly proved it by taking lathi-blows on his chest. Even after being severely injured he continued his protest and struggle against the British. The inside pages consist of an elevating account of his life how a humble boy of an ordinary school teacher’s family rose to become a renowned lawyer, social worker and freedom fighter to be reckoned with the top leaders like Mahatma Gandhi, Jawaharlal Nehru and Madan Mohan Malaviya and whose supreme sacrifice inspired the kind of Bhagat Singh and Chandra Shekhar Azad to take revenge from the British and attain martyrdom themself.

Biography of Lok Nayak Jai Prakash Narayan:...
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

The Biography of Lok Nayak Jai Prakash Narayan is the brief life sketch of a great revolutionary and freedom fighter who not only worked with Mahatma Gandhi and Jawaharlal Nehru to win the freedom of India but also worked with the great revolutionaries and socialists like Dr. Ram Manohar Lohia.
JP was a staunch Marxist but joined the freedom movement with Indian National Congress on the invitation of Jawaharlal Nehru. He was also engaged in many revolutionary activities and even raised the ‘Freedom Brigade’. He was arrested many times and spent many years of his life in various jails of India.
He differed with the Congress on the matter of Partition of India and ultimately parted ways with the Congress to form the Praja Socialist Party. Later, he left active politics and joined the ‘Bhoodan Movement’ of Acharya Vinoba Bhave and Sarvodaya work.
In the late 60’s and 70’s he was again active in mass movements in Gujarat and Bihar. He was again arrested during the ‘Emergency’ promulgated by Indira Gandhi.
The inside pages consist of an inspiring account of his life—how a humble village boy of Bihar rose to become a ‘Lok Nayak’ or ‘The People’s Hero’ of India.

Biography of Lok Nayak Jai Prakash Narayan:...
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

लोकनायक जयप्रकाश नारायण की जीवनी एक ऐसे महान क्रांतिकारी एवं स्वतंत्रता सेनानी की जीवन गाथा है जिसने भारत को स्वतंत्र कराने के लिये न केवल महात्मा गाँधी और जवाहरलाल नेहरू जैसे कांग्रेसी नेताओं के साथ कार्य किया अपितु डाॅ. राममनोहर लोहिया सरीखे महान क्रांतिकारी एवं समाजवादी के साथ भी कंधे से कंधा मिलाकर चले।
जे.पी. आरम्भ में माक्र्सवादी विचारधारा से प्रभावित थे किंतु जवाहरलाल नेहरू के कहने पर वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के साथ भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल हुए।
भारत के विभाजन के विषय पर उनका कांग्रेस से वैचारिक मतभेद हो गया और उन्होंने कांग्रेस से अलग होकर अपना अलग दल बना लिया। कुछ समय पश्चात् उन्होंने सक्रिय राजनीति छोड़कर आचार्य विनोबा भावे के भूदान आंदोलन एवं सर्वोदय आंदोलन में भी सक्रिय भूमिका निभाई।
पुस्तक में उनके जीवन का एक प्रेरक वर्णन है कि कैसे बिहार का एक सीधा-सादा बालक बड़ा होकर ‘लोकनायक’ अर्थात् भारतीय जनता का नायक कहलाया। 

Biography of Lokmanya Bal Gangadhar Tilak...
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

यह पुस्तक लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक का संक्षिप्त जीवन चित्रण प्रस्तुत करती है। स्वतंत्रता आंदोलन में उनके योगदान के विषय में उन्हें किसी व्याख्या की आवश्यकता नहीं है। पुस्तक में इस बात पर बल दिया गया है कि बाल गंगाधर तिलक ने अपने देशवासियों को किस प्रकार उनकी गुलामी के प्रति जागृत किया। यह पुस्तक लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक के कार्यों, कृतियों, संघर्ष, व्यक्तित्व और दार्शनिक विचारों के विविध रूपों पर भी पर्याप्त प्रकाश डालती है। हमें आशा है कि यह पुस्तक विद्यार्थियों और शिक्षार्थियों के लिए बाल गंगाधर तिलक जो एक महान स्वतंत्रता सेनानी और हिन्दू राष्ट्रवाद के जनक थे को समझने में आनंदपूर्ण एवं सहायक सिद्ध होगी।

Biography of Mahatma Gandhi
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

In this small book we have tried to carry across to the reader the main trends in Gandhi’s thinking and his final conclusions, being as true to the spirit as we could. Whenever possible, I have allowed Gandhi to speak for himself.

Biography of Mahatma Gandhi
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

मोहनदास करमचन्द गाँधी 19वीं शताब्दी के सबसे सम्माननीय आध्यात्मिक एवं राजनैतिक नेताओं में से एक थे। भारत की जनता को ब्रिटिश शासन से मुक्ति दिलाने के लिए गाँधीजी ने अहिंसापूर्ण संघर्ष का रास्ता अपनाया। उन्हें भारत की जनता द्वारा राष्ट्रपिता कहकर सम्मान दिया जाता है। इस छोटी-सी पुस्तक में हमने पाठकों के समक्ष गाँधीजी के चिन्तन की प्रमुख प्रवृत्तियों तथा उनके अन्तिम निष्कर्षों को प्रस्तुत करने का भरसक प्रयत्न किया है। जहाँ तक संभव हुआ है हमने गाँधीजी के विचारों को उनके शब्दों में प्रस्तुत करने का प्रयास किया है। यह पुस्तक गाँधीजी के विषय में कोई नीरस विश्लेषण नहीं है। यह उन वर्षों की संपूर्ण जीवनी नहीं है, यह वह सार है जिसका अन्वेषण किया गया है तथा जो महज तथ्य और व्याख्या नहीं है। प्रस्तुति सामान्यतः क्रमागत नहीं है क्योंकि उनके चिन्तन एवं अनुभवों को विभिन्न अध्यायों एवं विषयों में विभक्त किया गया है। अपने एवं अपने समाज के अन्दर मूलभूत बदलाव लाकर ही हम शान्तिपूर्ण एवं न्यायपूर्ण समाज का निर्माण करने में समर्थ होंगे। हमें गाँधीजी के सन्देश को समझकर, उसका अर्थ जानकर, उसका अनुसरण करना चाहिए।

Biography of Maulana Abul Kalam Azad: Great...
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

The Biography of Maulana Abul Kalam Azad is the the brief life sketch of a great freedom fighter and political leader of India who not only worked with Mahatma Gandhi and Jawaharlal Nehru to win the freedom of India but also worked as the first Education Minister of India to free Indians from the shackles of ignorance, illiteracy and unemployment.
Maulana Azad was an eminent scholar. He rose to prominence through his work as a journalist, publishing works critical of the British Raj and driving the causes of Indian nationalism. He lead the Khilafat Movement and was an enthusiastic supporter of Mahatma Gandhi’s Non-violence, Civil Disobedience and Non-cooperation Movements.
He awakened the Muslims from their orthodox ideas and worked hard for the Hindu-Muslim unity in India. He opposed the Partition of Bengal and also the Partition of India at the time of Independence.
The inside pages consist of an inspiring account of his life—how a humble boy who was born in Mecca rose to become a great freedom fighter of India, President of the Indian National Congress and the First Education Minister of India.

Biography of Maulana Abul Kalam Azad: Great...
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

मौलाना अबुल कलाम आजाद की जीवनी भारत के एक ऐसे महान स्वतंत्रता सेनानी और राजनेता की जीवनगाथा है जिन्होंने न केवल महात्मा गाँधी और जवाहरलाल नेहरू सरीखे नेताओं के साथ मिलकर भारत की स्वतंत्रता के लिये संघर्ष किया वरन् भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात् भारत का शिक्षामंत्री बनकर भारतीयों को अज्ञानता, अशिक्षा और बेरोजगारी की जंजीरों से भी मुक्त कराने का मार्ग प्रशस्त किया।
मौलाना आजाद एक प्रख्यात विद्वान थे। वे एक पत्रकार के रूप में कार्य करते हुए ब्रिटिश साम्राज्य की निंदा और भारतीय राष्ट्रीयता की भावना को बल देने वाले लेखों द्वारा प्रसिद्ध हुए थे। उन्होंने खिलाफत आंदोलन का नेतृत्व किया और महात्मा गाँधी के अहिंस, सविनय अवज्ञा और असहयोग आंदोलनों में भाग लिया।
उन्होंने मुस्लिमों को उनके रूढ़िवादी विचारों के प्रति जागरूक बनाया और हिन्दू-मुस्लिम एकता के लिये अत्यधिक प्रयास किये। उन्होंने बंगाल के विभाजन और बाद में भारत के विभाजन का भी पुरजोर विरोध किया।
पुस्तक में उनके जीवन का प्रेरणादायक विवरण है कि कैसे मक्का में जन्मा एक साधारण बालक बड़ा होकर एक महान स्वतंत्रता सेनानी, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का अध्यक्ष और भारत का प्रथम शिक्षामंत्री बना और स्वतंत्र भारत की नई पीढ़ी को शिक्षा का प्रकाश प्रदान कर उनका भविष्य उज्ज्वल बनाया।

Biography of Mother Teresa
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

The book provides excellent overview of Mother Teresa’s beliefs, her noted humanistic works, and her vision to live and work among the poorest in the world. In this biography, readers will follow Agnes Gonxha Bojaxhiu from her humble Mecidonian birth to worldwide celebrity as Mother Teresa. The nun who attended to the dying and diseased in Calcutta (now Kolkata), India, and established her Missionaries of Charity around the world, is revealed to have a singular determination from a young age. Readers will be challenged to consider for themselves whether Mother Teresa deserves to be sainted. Mother Teresa is characterized as being ordinary and her life as mundane. The biography suggests that she transcended her ordinariness with a singular belief that she was called to life’s work. When this work brought fame, which she never sought, she used it to further her causes. In a global age, celebrity worship allowed her to work the system. She became an icon of service and selflessness, but her human flaws remained behind the saintliness.

Biography of Munshi Premchand: Famous Hindi...
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

The Biography of Munshi Premchand is the brief life sketch of the great Indian writer famous for his modern Hindi-Urdu literature. He is one of the most celebrated writers of the Indian subcontinent, and is regarded as one of the foremost Indian writers of the early twentieth century.
A novel writer, story writer and dramatist, he has been referred as the “Upanyas Samrat” (Emperor among Novelists) by writers. His works include more than a dozen novels, around 250 short stories, several essays and translations of a number of foreign literary works into Hindi.
He also worked as a journalist and editor and took part in the freedom struggle of India in his own way. He advocated for Hindi as a national language. He took up the cause of social reforms in his stories and novels.
The inside pages consists of an enlightening account of the life of the great writer—who was born poor and died poor but made the Indian literature richer to a great extent by the strokes of his pen. Truly, he may be called the Shakespeare of Modern India.

Biography of Munshi Premchand: Famous Hindi...
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

मुंशी प्रेमचंद की जीवनी एक ऐसे महान भारतीय लेखक की संक्षिप्त जीवन गाथा है जो अपनी आधुनिक हिन्दी-उर्दू साहित्य की रचनाओं के लिये प्रख्यात हैं। वे भारतीय उपमहाद्वीप के सर्वाधिक प्रसिद्ध लेखक थे और बीसवीं सदी के पूर्वाह्न केे भारतीय लेखकों में सर्वाधिक अग्रणी लेखकों में से एक माने जाते हैं।
वे एक ऐसे उपन्यासकार, कथाकार एवं नाटककार थे जिन्हें साहित्यविदों द्वारा ‘उपन्यास सम्राट’ के नाम से संबोधित किया जाता है। उनकी रचनाओं में एक दर्जन से अधिक उपन्यास, प्रायः 300 लघु कथाएं, अनेक निबंध और विदेशी साहित्यिक रचनाओं के कई अनुवाद भी शामिल हैं।
पुस्तक में इस महान रचनाकार के जीवन का एक दीप्तिमान वर्णन है कि कैसे एक साधारण-सा व्यक्ति, जो निर्धन पैदा हुआ और निर्धन ही मृत्यु को प्राप्त हुआ, अपनी असाधारण लेखनी द्वारा भारतीय साहित्य को अत्यंत समृद्ध बना गया। यदि उन्हें आधुनिक भारत का शेक्सपियर कहा जाए तो अतिशयोक्ति नहीं होगी।

Biography of Pandit Jawaharlal Nehru
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

पंडित जवाहरलाल नेहरू भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में अग्रणी भूमिका निभाने वाले नेताओं में से एक थे। वे आजादी के बाद भारत के प्रथम प्रधानमंत्री बने। उन्हें आधुनिक भारत के निर्माता के रूप में जाना जाता है। वे बच्चों से अत्यधिक प्रेम करते थे, बच्चे भी प्यार से उन्हें चाचा नेहरू बुलाते थे। 1947 में वे स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री बने। उन्होंने भारत की स्वतंत्रता और दुर्भाग्यपूर्ण विभाजन के संबंध में अंतिम निर्णय पर अपनी स्वीकृ ति देकर देश का भविष्य तय किया। पाकिस्तान के साथ नई सीमा पर बड़े पैमाने पर पलायन और दंगे, भारतीय संघ में 500 के करीब रियासतों का एकीकरण, नए संविधान का निर्माण, संसदीय लोकतंत्र के लिए राजनैतिक और प्रशासनिक ढांचे की स्थापना जैसी विकट चुनौतियों का सामना उन्होंने अत्यंत प्रभावी ढंग से किया। जवाहरलाल नेहरू के विषय में बहुत सी बातें जानकारी-योग्य हैं। प्रस्तुत पुस्तक उनके आध्यात्मिक ओर राजनीतिक जीवन के प्रायः सभी आयामों पर पर्याप्त प्रकाश डालती है, जिनमें उनके महात्मा गांधी से निकट-संबंध, शिक्षा, पारिवारिक एवं राजनीतिक जीवन एवं छोटी-बड़ी जेल-यात्राएँ भी सम्मिलित हैं। पुस्तक नेहरू के बचपन से लेकर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष एवं प्रधानमंत्री पद पर आरूढ़ होने और दुःखद मृत्यु होने तक का वर्णन करती है और दर्शाती है कि कैसे उनके उन्मुक्त विचार एवं निडर नेतृत्व लंबे समय तक ब्रिटिश सरकार की कैद में रहने पर भी स्वतंत्रता आंदोलन का संचालन करने हेतु कमजोर नहीं पड़े थे और अंततः विजयी हुए थे।

Biography of Pandit Madan Mohan Malviya
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

पंडित मदन मोहन मालवीय एक बहुमुखी व्यक्तित्व वाले व्यक्ति थे। वे एक महान देशभक्त, एक शिक्षाविद्, एक समाज सुधारक, एक उत्साहपूर्ण पत्रकार, एक अनिच्छुक किंतु प्रभावशाली अधिवक्ता, एक सफल सांसद एवं एक उत्कृष्ट राजनेता थे। वे अंतर्मन से धार्मिक एवं मूल रूप से हिंदू थे और साथ-ही वे आधुनिक शिक्षा द्वारा विज्ञान के प्रसार एवं हिंदू-मुस्लिम एकता के प्रवर्तक थे। वे अपने समय के एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे किंतु उन्होंने इसके लिये संवैधानिक तरीकों और साधनों द्वारा संघर्ष किया न कि ब्रिटिश सरकार से सीधे टकराव द्वारा। वे कांग्रेस में सम्मिलित हुए और इसमें उच्चतम स्तर तक पहुँचे किंतु फिर भी कई बार उन्होंने इसकी नीतियों का विरोध किया, क्योंकि उन्हें लगा कि वे नीतियाँ राष्ट्रहित के विरुद्ध थीं। उन्होंने कभी भी कांग्रेस की हर बात पर आँखें बंद करके विश्वास नहीं किया। बनारस हिंदू विश्वविद्यालय भारत के लिये उनका महानतम योगदान है। यह वास्तव में उनकी बड़ी उपलब्धि थी जो कि भारत की जनता की शिक्षा के हित में थी और जिसे उन्होंने स्वयं अपने जीवनकाल में प्रफलित होते हुए देखा। अंदर के पृष्ठों में इस बात का एक रोचक एवं प्रेरक वर्णन है कि कैसे एक साधारण कथावाचक का पुत्र ऊँचा उठकर ‘महामना’ कहलाया जो कि गांधी की ‘महात्मा’ के समान उपाधि है।

Biography of Pt. Madan Mohan Malviya
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

Pandit Madan Mohan Malaviya was a multifaceted peronality. He was a great patriot, an educationist with a great vision, a social reformer, an ardent journalist, a reluctant but effective lawyer, a successful parliamentarian and an outstanding statesman. He was deeply religious at heart and a Hindu to the core yet at the same time he strongly advocated propagation of science through modern education and Hindu-Muslim Unity. He was a great freedom fighter of his time but he fought for it in constitutional ways and means and not through direct confrontation with British Government. He joined the congress and reached the height of representing it in the highest capacity yet at the same time he opposed its policy when he felt that a policy was detrimental to national interest. He did not believe and never followed blindly everything that was preached by the Congress. Banaras Hindu University is his greatest contribution to India. This was his really monumental achievement for the cause of education of Indian masses which he saw bearing fruit in his life time. The inside pages contain an interesting and elevating story of how a simple boy of a humble ‘Kathawachak’ rose to become the ‘Mahamana’, a title that literally matches the title ‘Mahatma’ of Gandhi.

Biography of Rabindranath Tagore
By: RPH Editorial Board
  • 0 Ratings
  • 0 Review(s)
  • Availability: In Stock

This book is a biography of Rabindranath Tagore, was a Bengali Poet, Philosopher, Social Reformer and Dramatist. The book gives its reader each and every small detail about the Tagore life and personality.